खेल

What is DLS Full Form in Cricket? – क्रिकेट में DLS का फुल फॉर्म क्या है?

डीएलएस का पूर्ण रूप डकवर्थ-लुईस-स्टर्न पद्धति है, जो मौसम से बाधित सीमित ओवरों के क्रिकेट मैच में दूसरे स्थान पर बल्लेबाजी करने वाली टीम के लिए लक्ष्य स्कोर की गणना करने के लिए डिज़ाइन किया गया एक गणितीय सूत्र है।

Whatsapp Channel
Telegram channel

DLS Full Form in Cricket

डीएलएस का पूर्ण रूप डकवर्थ-लुईस-स्टर्न विधि है, जो मौसम या अन्य परिस्थितियों से बाधित सीमित ओवरों के क्रिकेट मैच में दूसरे स्थान पर बल्लेबाजी करने वाली टीम के लिए लक्ष्य स्कोर की गणना करने के लिए डिज़ाइन किया गया एक गणितीय सूत्र है। इसे आम तौर पर लक्ष्य स्कोर निर्धारित करने का सबसे सटीक तरीका माना जाता है ।

डीएलएस पद्धति दो अंग्रेजी सांख्यिकीविदों, फ्रैंक डकवर्थ और टोनी लुईस द्वारा तैयार की गई थी, और पहली बार 1997 में इसका उपयोग किया गया था। 2015 में, इस पद्धति को ऑस्ट्रेलियाई अकादमिक स्टीव स्टर्न द्वारा अद्यतन किया गया था, और इसका नाम बदलकर डकवर्थ-लुईस-स्टर्न पद्धति कर दिया गया था।

डीएलएस पद्धति दो कारकों को ध्यान में रखती है: पहले बल्लेबाजी करने वाली टीम द्वारा बनाए गए रनों की संख्या और मैच में शेष ओवरों की संख्या। इसमें पहले बल्लेबाजी करने वाली किसी टीम द्वारा खोए गए विकेटों की संख्या को भी ध्यान में रखा जाता है क्योंकि इससे अंक प्रतिशत पर महत्वपूर्ण प्रभाव पड़ सकता है।

डीएलएस पद्धति निम्नलिखित सूत्र के आधार पर दूसरे स्थान पर बल्लेबाजी करने वाली टीम के लिए लक्ष्य स्कोर की गणना करती है:

लक्ष्य स्कोर = (बराबर औसत स्कोर – पहले बल्लेबाजी करने वाली टीम द्वारा हारा हुआ प्रति विकेट औसत स्कोर) * मैच में शेष ओवर

बराबर औसत स्कोर वह औसत स्कोर है जो एक टीम ऐतिहासिक डेटा के आधार पर दिए गए ओवरों में बनाएगी। ऐतिहासिक आंकड़ों के आधार पर , प्रति विकेट खोए गए औसत स्कोर का मतलब प्रति विकेट खोए गए रनों की औसत संख्या है।

DLS पद्धति का उपयोग अंतरराष्ट्रीय और घरेलू सीमित ओवरों के क्रिकेट मैचों में दूसरी टीम के लिए लक्ष्य स्कोर निर्धारित करने के लिए किया जाता है। इसका उपयोग बेसबॉल और सॉफ्टबॉल जैसे अन्य खेलों में भी किया जाता है।

See also  Halloween 2023 कब है: सटीक तिथि, महत्व और इसे कैसे मनाएं इसकी जांच करें

Advantages of the DLS method in Cricket
क्रिकेट में डीएलएस पद्धति के लाभ

बारिश से प्रभावित मैचों में लक्ष्य स्कोर निर्धारित करने के अन्य तरीकों की तुलना में डीएलएस पद्धति के कई फायदे हैं। इन फायदों में शामिल हैं:

  • यह एक निष्पक्ष और वस्तुनिष्ठ तरीका है,  क्योंकि यह ऐतिहासिक आंकड़ों पर आधारित है।
  •  कंप्यूटर के उपयोग के बिना भी गणना करना अपेक्षाकृत आसान है ।
  • यह विभिन्न मैच स्थितियों में उपयोग करने के लिए पर्याप्त लचीला है।

Disadvantages of the DLS method in Cricket
क्रिकेट में डीएलएस पद्धति के नुकसान

डीएलएस पद्धति के कुछ नुकसान भी हैं, जिनमें शामिल हैं:

  • यह जटिल और समझने में कठिन हो सकता है।
  • यह कुछ स्थितियों में गलत हो सकता है,  जैसे कि जब पहले बल्लेबाजी करने वाली टीम ने मैच की शुरुआत में बहुत सारे विकेट खो दिए हों।
  • ऐसे मैचों में इसे लागू करना मुश्किल हो सकता है जहां मौसम की स्थिति लगातार बदल रही हो।

कुल मिलाकर, डीएलएस पद्धति बारिश से प्रभावित सीमित ओवरों के क्रिकेट मैचों में लक्ष्य स्कोर निर्धारित करने की सबसे सटीक और विश्वसनीय पद्धति है। इसका उपयोग सभी अंतरराष्ट्रीय और घरेलू सीमित ओवरों के क्रिकेट मैचों में किया जाता है, और यह अन्य खेलों में भी तेजी से लोकप्रिय हो रहा है।

उपयोग में आने वाली डीएलएस पद्धति के उदाहरणExamples of the DLS method in use

यहां उपयोग में आने वाली डीएलएस पद्धति के कुछ उदाहरण दिए गए हैं:

  • 2019 क्रिकेट विश्व कप फाइनल में,  इंग्लैंड पहले बल्लेबाजी कर रहा था जब मैच 24. 1 ओवर के बाद बारिश से बाधित हो गया था।  उस समय इंग्लैंड का स्कोर 222/2 था।  न्यूजीलैंड के लिए 241 रनों के लक्ष्य स्कोर की गणना करने के लिए डीएलएस पद्धति का उपयोग किया गया था,  जिसके पास रन बनाने के लिए 49 ओवर थे।  हालांकि,  न्यूजीलैंड 46.1 ओवर में 241 रन ही बना पाई  और इंग्लैंड ने यह मैच एक रन से जीत लिया।
  • इंडियन प्रीमियर लीग 2021 में  दिल्ली कैपिटल्स और सनराइजर्स हैदराबाद के बीच मैच 18.4 ओवर के बाद बारिश से बाधित हो गया।  उस समय दिल्ली कैपिटल्स का स्कोर 159/3 था।  सनराइजर्स हैदराबाद के लिए 162 रनों के लक्ष्य स्कोर की गणना करने के लिए डीएलएस पद्धति का उपयोग किया गया था, जिसके पास स्कोर करने के लिए  17. 2 ओवर थे ।  हालांकि,  सनराइजर्स हैदराबाद 17. 2 ओवर में 157 रन ही बना पाई  और दिल्ली कैपिटल्स ने चार रन से मैच जीत लिया।
See also  क्रिकेट के बारे में 15 मजेदार तथ्य (Fun Facts About Cricket)

ये केवल दो उदाहरण हैं कि कई बार बारिश से प्रभावित क्रिकेट मैच का परिणाम निर्धारित करने के लिए डीएलएस पद्धति का उपयोग किया गया है। डीएलएस पद्धति लक्ष्य स्कोर निर्धारित करने की एक निष्पक्ष और सटीक पद्धति है, और यह क्रिकेट के आधुनिक खेल के लिए एक आवश्यक उपकरण है।

डीएलएस पद्धति का इतिहास: History of the DLS Method

डीएलएस पद्धति पहली बार 1997 में पेश की गई थी, और इसका नाम इसके डेवलपर्स, फ्रैंक डकवर्थ और टोनी लुईस के नाम पर रखा गया है। इंग्लैंड के इन दो सांख्यिकीविदों ने बारिश से प्रभावित मैचों की समस्या का समाधान करने और समान परिणाम सुनिश्चित करने के लिए विधि बनाई। बाद में, 2014 में, इस पद्धति को संशोधित किया गया और ऑस्ट्रेलियाई सांख्यिकीविद् प्रोफेसर स्टीवन स्टर्न के योगदान को शामिल करने के लिए इसे डकवर्थ-लुईस-स्टर्न (डीएलएस) पद्धति का नाम दिया गया।

डीएलएस पद्धति कैसे काम करती है? – How Does the DLS Method Work?

डीएलएस पद्धति दूसरे स्थान पर बल्लेबाजी करने वाली टीम के लिए लक्ष्य स्कोर को समायोजित करने के लिए कई कारकों को ध्यान में रखती है। इन कारकों में फेंके गए ओवरों की संख्या, खोए गए विकेटों की संख्या और व्यवधान के समय टीम के पास उपलब्ध संसाधन शामिल हैं। गणना का उद्देश्य एक उचित लक्ष्य प्रदान करना है, यह ध्यान में रखते हुए कि जब मैच बारिश से प्रभावित होता है तो दूसरी बल्लेबाजी करने वाली टीम ने कम विकेट खोए होंगे या खेलने के लिए अधिक ओवर होंगे।

डीएलएस पद्धति को लागू करने की मूल प्रक्रिया को निम्नानुसार संक्षेपित किया जा सकता है:

See also  BAB vs AFG: Mehidy Hasan-Najmul Hossain Shanto के तूफानी शतक! Afghanistan के सामने बांग्लादेश की 335 रनों की पहाड़ी चुनौती

मैच में फेंके जाने वाले ओवरों की संख्या बारिश या अन्य रुकावटों के कारण गंवाए गए ओवरों को ध्यान में रखते हुए निर्धारित की जाती है।

शेष ओवरों और विकेटों की संख्या के आधार पर लक्ष्य स्कोर की पुनर्गणना की जाती है। डीएलएस पद्धति खोए गए ओवरों और विकेटों के विभिन्न संयोजनों के लिए बराबर स्कोर की एक तालिका प्रदान करती है।

दूसरे स्थान पर बल्लेबाजी करने वाली टीम को उपलब्ध ओवरों के भीतर संशोधित लक्ष्य हासिल करना आवश्यक है।

यदि संशोधित लक्ष्य प्राप्त हो जाता है, तो टीम जीत जाती है। यदि नहीं, तो पहले बल्लेबाजी करने वाली टीम जीत जाती है।

क्रिया में डीएलएस विधि का उदाहरण: Example of DLS Method in Action

आइए एक काल्पनिक स्थिति पर विचार करें जहां पहले बल्लेबाजी करने वाली टीम 50 ओवरों में 250 रन बनाती है। हालांकि, बारिश के कारण दूसरी पारी को 40 ओवर का कर दिया गया है. डीएलएस पद्धति का उपयोग करते हुए, दूसरे स्थान पर बल्लेबाजी करने वाली टीम के लिए लक्ष्य को संशोधित कर 200 रन किया जा सकता है। यह संशोधित लक्ष्य सुनिश्चित करता है कि दूसरे स्थान पर बल्लेबाजी करने वाली टीम के पास कम ओवरों में खेल जीतने का उचित अवसर है।

आलोचना और विवाद: Criticism and Controversies

जबकि डीएलएस पद्धति व्यापक रूप से स्वीकार की जाती है और अंतरराष्ट्रीय और घरेलू क्रिकेट में उपयोग की जाती है, यह विवादों से अछूती नहीं रही है। आलोचकों का तर्क है कि यह विधि कभी-कभी अवास्तविक लक्ष्य उत्पन्न कर सकती है, जिससे असंतोषजनक परिणाम सामने आ सकते हैं। इसके अतिरिक्त, प्रशंसकों और खिलाड़ियों के लिए इसे पूरी तरह समझना जटिल और चुनौतीपूर्ण होने के कारण डीएलएस पद्धति की आलोचना की गई है।

इन आलोचनाओं के बावजूद, डीएलएस पद्धति क्रिकेट की दुनिया में एक आवश्यक उपकरण बन गई है, जो प्रतिकूल मौसम की स्थिति के प्रभाव को प्रबंधित करने में मदद करती है और यह सुनिश्चित करती है कि मैचों का निर्णय निष्पक्ष रूप से हो।

Whatsapp Channel
Telegram channel

Sachin Kushwaha

सचिन एक अनुभवी पत्रकार हैं और उन्हें सच्चाई को उजागर करने और नवीनतम समाचार पाठकों तक पहुंचाने का जुनून है। indianbreaking.com के पीछे प्रेरक शक्ति के रूप में, सचिन सटीक, निष्पक्ष और विचारोत्तेजक समाचार लेख देने के लिए समर्पित हैं।

Related Articles

One Comment

  1. Howdy! Someone in my Myspace group shared this website
    with us so I came to look it over. I’m definitely loving the information. I’m
    book-marking and will be tweeting this to
    my followers! Outstanding blog and amazing style and design.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button